एक बार की बात है, एक बुद्धिमान बूढ़े बाबा था जो अपनी बुद्धि के लिए जाना जाता था। दूर-दूर से लोग उनके ज्ञान भरे वचनों को सुनने आते थे। एक दिन, एक युवक उस बूढ़े बाबा के पास गया और उससे स्वर्ग और नरक के बारे में पूछा।

युवक ने पूछा। “मुझे बताओ, बुद्धिमान बूढ़े बाबा, स्वर्ग क्या है और नरक क्या है?”

बुद्धिमान बूढ़े बाबा मुस्कुराया और उत्तर दिया, “स्वर्ग और नरक दोनों बहुत वास्तविक हैं, लेकिन वे हमारे भीतर मौजूद हैं।”

Story of Heaven and Hell | स्वर्ग और नरक की कहानी | Motivational story in hindi | Kahaniya in hindi
Story of Heaven and Hell

युवक बुद्धिमान बूढ़े बाबा के उत्तर से हैरान था, इसलिए उसने उसे समझाने के लिए कहा।

बूढ़े बाबा ने कहा, “कल्पना कीजिए कि आपके सामने दो दरवाजे हैं। एक स्वर्ग की ओर जाता है और दूसरा नरक की ओर। जब आप स्वर्ग के द्वार में प्रवेश करते हैं, तो सभी देवदूत और संत आपका खुले हाथों से स्वागत करते हैं। आप सुंदरता, शांति और खुशी से घिरे हुए हैं। आपकी हर इच्छा पूरी होती है और आप शुद्ध आनंद और संतोष महसूस करते हैं।”

युवक ने कौतूहलवश पूछा, “नरक के द्वार के बारे में क्या?”

बूढ़े बाबा ने उत्तर दिया, “जब आप नरक के द्वार में प्रवेश करते हैं, तो आप अंधेरे और दर्द से मिलते हैं। आप आग की लपटों से घिरे होते हैं, और मृत्यु और सड़न की बदबू आपके नथुनों में भर जाती है। आपका शरीर एक न बुझने वाली आग से भस्म हो जाता है, और तुम्हारी आत्मा दुष्टात्माओं से पीड़ित है। तुम्हें पीड़ा, कष्ट और निराशा के सिवा कुछ नहीं मिलता।”

युवक नरक के वर्णन से भयभीत था, और उसने बुद्धिमान बूढ़े बाबा से पूछा कि इससे कैसे बचा जाए।

Story of Heaven and Hell | स्वर्ग और नरक की कहानी

बूढ़े बाबा ने कहा, “नर्क से बचने की कुंजी सदाचार और धार्मिकता का जीवन जीना है। आपको दूसरों के प्रति दयालु, ईमानदार और दयालु होना चाहिए। आपको ज्ञान, ज्ञान और समझ की तलाश करनी चाहिए। आपको दूसरों की सेवा करनी चाहिए और करना चाहिए।” अच्छे कर्म। ऐसा करने से, तुम स्वर्ग के द्वार में प्रवेश करोगे, और तुम्हारा बाहें फैलाकर स्वागत किया जाएगा।”

युवक बूढ़े बाबा के शब्दों से प्रेरित था, और वह एक सदाचारी जीवन जीने के लिए निकल पड़ा। उन्होंने खुद को सीखने, दूसरों की सेवा करने और अच्छे कर्म करने के लिए समर्पित कर दिया। वह अपनी दयालुता, उदारता और ज्ञान के लिए जाने जाते थे। दूर-दूर से लोग उनकी वाणी सुनने आते थे।

एक दिन, युवक ने खुद को बुद्धिमान बूढ़े बाबा द्वारा वर्णित दो दरवाजों के सामने खड़ा पाया। वह एक पल के लिए झिझका, लेकिन फिर उसने स्वर्ग का दरवाजा चुना। जैसे ही उसने प्रवेश किया, उसकी मुलाकात एक चकाचौंध करने वाली रोशनी से हुई, और उसने तुरहियों और स्वर्गदूतों के गायन की आवाज सुनी। उन्हें असीम आनंद और शांति का अनुभव हुआ।

लेकिन जैसे ही उसने चारों ओर देखा, उसने कुछ ऐसा देखा जिसने उसे चौंका दिया। उसने एक ऐसे बाबा को देखा जो पाप और पाप का जीवन जी रहा था। इस आदमी ने धोखा दिया था, झूठ बोला था और दूसरों से चोरी की थी। उसने कभी दया या करुणा नहीं दिखाई थी, और उसने अपने जीवन में कभी कोई अच्छा काम नहीं किया था। फिर भी, यह आदमी भी स्वर्ग में था।

युवक भ्रमित हो गया और उसने उस बाबा से पूछा, “तुम यहाँ कैसे आए? तुमने पाप और पाप का जीवन व्यतीत किया।”

उस आदमी ने उत्तर दिया, “हाँ, मैंने पाप और पाप का जीवन व्यतीत किया, लेकिन मैंने एक अच्छा काम भी किया। मैंने एक भिखारी को रोटी का एक टुकड़ा दिया, जब वह भूख से मर रहा था। वह एक अच्छा काम मेरे सारे पापों को दूर करने के लिए पर्याप्त था और मुझे स्वर्ग में स्थान दिलाने के लिए।”

आदमी की बातों से युवक चकित रह गया। उन्होंने महसूस किया कि भले ही उन्होंने एक पुण्य जीवन व्यतीत किया हो, फिर भी अगर वह एक भी अच्छा काम करने में विफल रहे तो उन्हें स्वर्ग में प्रवेश से वंचित किया जा सकता है।

वह बुद्धिमान बूढ़े बाबा के पास लौटा और उसे बताया कि उसने क्या देखा था। बुद्धिमान बूढ़ा बाबा मुस्कुराया और बोला, “हाँ, मेरे बच्चे, स्वर्ग और नर्क हमारे भीतर मौजूद हैं। यह हम पर निर्भर है कि किस दरवाजे से प्रवेश करना है। लेकिन याद रखें, भले ही आपने जैसा भी जीवन जिया हो लेकिन हमेशा दूसरों की भलाई करते रहना हमेशा दूसरों की मदद करते रहना स्वर्ग मिले या नर्क हमेशा सही रास्ते पर चलना उन लोगों की मदद करते रहना देखना एक दिन तुमको भी स्वर्ग ही मिलेगा धन्यवाद दोस्त Story of Heaven and Hell | स्वर्ग और नरक की कहानी से अपने क्या सीखा अपनी राय जरूर बताना

——————————————————————————————————————–

Read More : बूढ़ी मां और शांति की इमोशनल स्टोरी | Emotional Story


दोस्तों अगर Story of Heaven and Hell | स्वर्ग और नरक की कहानी लेख अच्छा लगा हो तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करें इससे हमे सहयोग मिलेगा और कमेंट में अपनी राय जरूर बताएं, Flasis आपके उज्जवल भविष्य की कामना करता है, धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *