लोगों का मानना है जो इंसान कम बोलता है य बहुत चुप रहता है वह इंसान बेवकूफ होता है जी नहीं दोस्तों पावर ऑफ साइलेंस (Power of less Speaking People)आपको नहीं पता है जो घड़ा आधा भरा होता है वह ज्यादा बजता है, और जो पूरा भरा होता है वह चुप रहता है। एक साइलेंस रहने वाले व्यक्ति की पावर क्या है उसके दिमाग में क्या चल रहा है वह क्या सोच रहा है वह क्या कर सकता है वह कहावत तो आपने सुनी होगी जो बादल गरजते हैं वह बरसते नहीं और जो बरसते हैं वह गरजते नहीं वह एक बार ही बोलेगा लेकिन जो भी बोलेगा एकदम सॉलिड बोलेगा उसका दिमाग बहुत क्रिएटिव होता है।

Power of less Speaking People कम बोलने वाले व्यक्ति की पावर

साइलेंट रहने वाले व्यक्ति बड़े से बड़े काम को चुटकियों में कर देते हैं आपको क्या लगता है जो इंसान अकेले में रहता है और बहुत ज्यादा चुप रहता है उस इंसान में कोई कमी होगी ऐसा नहीं है दोस्तों क्या आपको पता है फेसबुक से फाउंडर मार्क जुकरबर्ग वारेन बफेट  बिल गेट और अपने मोटा भाई अनिल अंबानी और एपीजे अब्दुल कलाम यह सभी लोग बहुत ही कम बोलते हैं और आज इनका दुनिया भर में नाम है यह पावर होती है साइलेंट की क्योंकि उनका दिमाग शांत रहता है वह कभी भी फालतू की बातें नहीं करते हैं इधर-उधर दोस्तों में खड़े होकर अपना टाइम वेस्ट नहीं करते जितना हो सकता है कम बोलते हैं वह अपनी सारी एनर्जी अपने काम में लगाते है सही जगह और सही वजह पर बोलना ज़रूरी है, वरना चुप रहना ही बेहतर है। आज हम आपको ऐसे ही पांच क्वालिटी बताएंगे जिसको जानने के बाद आप उतना ही बोलोगे जितनी आपको जरूरत होगी।

थॉट फुलने

थॉट फुलनेस जिसको कहते हैं विचारशीलता जी हां दोस्तों आपने बहुत से व्यक्ति देखे होंगे जो बोलने से पहले कुछ देर विचार करके फिर बोलते हैं आपने कभी आमिर खान का इंटरव्यू सुना होगा उनसे जब भी कोई सवाल पूछा जाता है तो वह उस पर कुछ देर चुप रहते हैं और उसके बाद उसका आंसर देते हैं वह हमेशा कम ही बोलते हैं लेकिन जितना भी बोलते हैं सॉलिड बोलते हैं ऐसे व्यक्ति दिखने में तो बहुत चुप चाप और सीधे साधे लगते हैं लेकिन अंदर से वह बहुत ही समझदार और क्रिएटिव इंसान होते हैं या इनकी सबसे अच्छी क्वालिटी होती है कम बात करने वाले व्यक्ति अक्सर बोलने से पहले अच्छी तरह सोचते हैं। वे अपने शब्दों का चयन सोच-समझकर करते हैं, जिससे जब वे बोलने का निर्णय लेते हैं तो अधिक सार्थक और प्रभावशाली बात हो सके जिसको सुनने में मजा आता है और इंसान हमेशा ऐसे ही लोगों को सुनता है ऐसा नहीं है जो भी दिमाग में आया बस बोल दो जब भी बोलो सोच समझकर बोलो और कम बोलने वाले की रिस्पेक्ट करो क्योंकि वह बोल नहीं रहा है तो वह उसकी मर्जी है वह भी चाहे तो तुमसे ज्यादा बोल सकता है लेकिन वह जानता है कि भैंस के आगे बीन बजाने का कोई फायदा नहीं है।

एक्टिव लिस्नर्स

जो व्यक्ति कम बोलते हैं वह उन चीजों पर भी ध्यान देते हैं जिस पर आम लोगों का ध्यान नहीं जाता है वह बारीक से बारीक चीजों को एक मिनट में पकड़ लेते हैं आपने अक्सर देखा होगा जो व्यक्ति बहुत ज्यादा बोलते हैं कई घंटों तक बोलते ही रहते हैं आप जब भी उनके सामने कुछ भी बोले वह आपकी बातों पर ध्यान नहीं देंगे आपने कितनी भी अच्छी बात की हो जितनी भी समझदारी वाली  उनके फायदे वाली बात कह दी हो लेकिन वह अपने बोलने पर ही ध्यान देते हैं वह कभी भी दूसरों की बातों पर ध्यान नहीं देते बस उनको बोलना है चाहे वह कुछ भी बोले अच्छा बोले या बुरा बोले ऐसे व्यक्ति को लोग पसंद नहीं करते जो सिर्फ अपनी ही बात करें दूसरों की ना सुने और ऐसे व्यक्ति जो कम बोलते हैं वाह बहुत अच्छे से दूसरों की बातों को सुनते हैं समझते हैं और उनको गौर करते हैं की सामने वाला क्या चाह रहा है उसके लिए क्या सही होगा यह सब सुनने के बाद वह सोच समझ कर अपना विचार उसके सामने रखते हैं जिससे वह पूर्ण रूप से संतुष्ट हो जाता है इसीलिए दोस्तों कहा जाता है।

ख़ामोशी में छुपी है एक अलग सी ताक़त जिसे शब्दों में भी बयां नहीं कर सकते  ख़ामोशी वह शक्ति है जिससे बड़ी बातें समझाई जा सकती हैं। और अब हम देखते हैं अपनी अगली क्वालिटी जो है।

स्वयं जागरूक (Self Aware)

जो व्यक्ति कम बोलते हैं उनमें एक यह क्वालिटी भी देखने को मिलती है  वह दूसरे पर डिपेंड नहीं होते हैं वह ज्यादातर समय अपना काम करने में बिजी रहते हैं वह दोस्तों में खड़े होकर किसी की बुराइयां करने में अपना समय बर्बाद नहीं करते हैं  उनसे जब सलाह मांगो तभी वह देते हैं वरना वाह अपने काम में व्यस्त रहते हैं वह बातों को बहुत शॉर्ट में करते हैं जिससे उनका और सामने वाले दोनों का टाइम खराब नहीं होता है इसीलिए ऐसे व्यक्ति किसी इंसान के आगे पीछे नहीं घूमते हैं और ना ही उनकी चापलूसी करते हैं क्योंकि वह जानता है जितनी देर मैं इनकी चापलूसी करूंगा उतनी  देर में मैं अपना काम कर लूंगा तो फालतू का समय बर्बाद क्यों करना  जो भी करना है अपने से करना है और तुरंत ही उस काम को  निपटाना है इसीलिए कम बोलने वाला व्यक्ति ज्यादा बोलने वाले व्यक्ति से कहीं ज्यादा अवेयर होता है और एक बात याद रखना जो व्यक्ति शांत होता है वही जागरूक होता है और एक दिन वही अपनी जिंदगी में सफल होता है।

एक शांत व्यवहार वाला व्यक्ति अपने कठिन परिस्थितियों में भी अपने दिमाग को एकदम कंट्रोल रखता है कितनी भी बड़ी प्रॉब्लम आ जाए उसका सामना बड़ी शांति के साथ करता है वह कभी भी घबराता नहीं अपने मन को  हमेशा पॉजिटिव रखता है जिससे उसके आसपास के लोगों पर एक पॉजिटिव प्रभाव पड़ता है और जो व्यक्ति बहुत ज्यादा बोलता है वह छोटी-छोटी परेशानियों में ही डर जाता है इससे उनके आसपास के लोगों पर भी नेगेटिव प्रभाव पड़ता है और उनके अंदर भी डर बैठ जाता है जबकि एक चुप रहने वाला व्यक्ति बड़ी से बड़ी परेशानी का सामना बहुत ही शांत दिमाग से करता है और अपनी प्रॉब्लम दूसरों को बता कर उनको परेशान नहीं करता है वह खुद ही प्रॉब्लम का सॉल्यूशन ढूंढने में लगा रहता है या एक बहुत ही महान व्यक्तियों की निशानी है जो अपने कठिन  समय में अपने मन को कंट्रोल कर सके इट इज द पावर ऑफ साइलेंट मैन दोस्तों इसलिए किसी भी शांत रहने वाले व्यक्ति को कम मत समझना अब दोस्तों हम चलते हैं अपने नेक्स्ट पॉइंट की तरफ जो है।

आदरणीय (Respectfull)

जब कोई व्यक्ति आपसे बात कर रहा है और आप चुप रह कर उसकी बातें सुनते रहते हैं ऐसे व्यक्ति के दिल में आपके लिए रिस्पेक्ट बढ़ जाती है वह सोचता है कि आपने उसको बीच में टोका नहीं और अंत में अपनी बात को रखा कभी कदार चुप रहना भी एक रिस्पेक्ट के दायरे में आता यदि आप दूसरों के मामले में दखल नहीं देते हैं जब जरूरत हो तभी बोलते हैं तो लोगों का ध्यान आपके ऊपर जाता है और अगर आप जब जरूरत हो तभी बोलते हैं तो लोग आपकी बातों को ज्यादा महत्व देंगे और आपकी बहुत ज्यादा रिस्पेक्ट करेंगे लोग आपकी बातों को उन लोगों की तुलना में ज्यादा महत्त्व देंगे जो लोग बिना जरूरत के बोलते करते रहते हैं आपने अक्सर देखा होगा कॉलेज में घर में टीचर या पैरंट्स उन्हीं बच्चों पर ज्यादा ध्यान देती हैं और उनकी रिस्पेक्ट करती है जो कम बोलते हैं और जब जरूरत हो तभी बोलते हैं  उन बच्चों को वह बिल्कुल भी रिस्पेक्ट नहीं देती है जो बहुत ज्यादा बोलते हैं।

दोस्तों इन सभी क्वालिटी को सुनकर आप समझ गए होंगे कि जो व्यक्ति चुप रहते हैं या कम बोलते हैं वाह व्यक्ति कमजोर नहीं होते हैं तो अब इसका मतलब क्या आप भी आज से चुप ही रहेंगे नहीं दोस्तों ऐसा नहीं है आप कभी भी किसी और सफल इंसान को देख कर अपने आप को कभी मत बदलना आप जैसे भी हैं यूनिक है अब आप अपने देश के पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह जी को ही देख लीजिए वह हमेशा चुप रहते हैं जब जरूरत होती है तभी बोलते हैं उन्होंने सही समय पर बहुत सारे सही डिसीजन लिए जिससे आज देश को बहुत फायदा हुआ और आज के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी को देखिए  वह बहुत अधिक बोलते हैं उनकी अपनी अलग क्वालिटी है और उन्होंने भी अपने देश के लिए नए-नए डिसीजन लिए जिससे देश को बहुत अधिक फायदा हुआ इसीलिए दोस्तों हर इंसान की क्वालिटी अलग-अलग होती है आप किसी को देखकर अपने आपको मत बदलना लेकिन आप अपने अंदर बदलाव ला सकते हैं जो आपको एक बेहतर इंसान बना सकती है।

Conclusion

जिस तरह कमान से निकला हुआ तीर लौट कर कभी वापस नहीं आता ठीक उसी प्रकार मुंह से निकले आपके शब्द कभी वापस नहीं आएंगे इसीलिए दोस्तों जीतना जरूरी हो सके उतना ही बोल अपने अंदर सीखने और ग्रहण करने की क्षमता को बढ़ाएं और आखरी में एक शब्द कहूंगा कि मौन रहना एक साधना है पर सोच समझकर बोलना एक कला है। दोस्तों एक नए मोटिवेशन के साथ मैं आपसे फिर मिलने जरूर आऊंगा जय हिंद।


Read More : अपनी RESPECT करवाना सीखो | Give Respect Take Respect


दोस्तों अगर आपको लेख Power of less Speaking People कम बोलने वाले व्यक्ति की पावर अच्छा लगा हो तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करें इससे हमे सहयोग मिलेगा और कमेंट में अपनी राय जरूर बताएं, Flasis आपके उज्जवल भविष्य की कामना करता है, धन्यवाद।

Quotes that change your life (Power of less Speaking People)

अक्सर खामोशी की खोज में घूमते-घूमते, हम खुद को खो बैठते हैं।

Power of less Speaking People quotes in hindi

शांति एक ऐसी चीज है जो अपनी छाँव में सभी समस्याओं को विलीन कर देती है।

quotes in hindi Power of less Speaking People कम बोलने वाले व्यक्ति की पावर

मौन एक महान शक्ति है, जो हर समस्या का समाधान कर सकती है और हमें अपनी असली आत्मा से जोड़ती है।

quotes in hindi good morning Power of less Speaking People कम बोलने वाले व्यक्ति की पावर

शांति के बिना मनुष्य के अंदर उसके जीवन का सत्य नहीं आ सकता है। ‘‘महात्मा गांधी’’

good morning massage instagram

मन को स्वच्छ करने का सबसे बड़ा और सबसे सुलझा हुआ रास्ता है ‘‘खामोशी (मौन)’’

good morning massage  for status Self Aware

खामोशी के बिना विचारों की उड़ान नहीं भर सकते खामोशी अन्तर्मन की गहराई में छिपी रहती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *