पूरा मोहल्ला अपनी जवान बेटी को मेरे मकान मालिक के पास रात भर के लिए छोड़ कर जाता था मेरा कमरा उनके बगल में ही था रात भर   चिल्लाने की आवाज आती रहती थी और जब वह लड़की सुबह निकलती थी तो पसीने में भीगी हुई और वह ठीक से चल भी नहीं पा रही थी बहुत थकी हुई और उनके बाल भी कटे हुए रहते थे उनका मानना था ऐसा करने से लड़कियों का भाग्य खुल जाता है।

बेटियां और मकान मालिक की कहानी | Hot Hindi Khaniya | new hindi khaniya | best hindi khaniya | hindi khaniya with moral

यह सुनते ही मैंने अपनी जवान बहन को उस कमरे में भेज दिया और उसके कुछ महीने बाद ही उसकी शादी हो गई और वह अपने ससुराल में मजे से रहने लगी मैं भी अब जवान हो चुकी थी तो क्या मुझे भी उनके साथ एक रात सोना पड़ेगा अपना भाग्य खुलवाने के लिए मुझे तो समझ में नहीं आ रहा अब मैं क्या करूं या सब सच्चाई है या सिर्फ एक अंधविश्वास मैंने उन लड़कियों से इस बारे में बात की लेकिन उन्होंने मुझको कुछ भी नहीं बताया अब इसका एक ही रास्ता था। 

जी हां दोस्तों यह बात उस समय की है जब मैं अपने गांव में इंटर की पढ़ाई पूरी कर चुकी थी और शहर के एक बड़े कॉलेज में एडमिशन ले लिया था इसीलिए मैं शहर चली आई वहां पर मैंने अपने पिताजी के एक दोस्त से कहकर एक घर में एक कमरा किराए पर ले लिया था यह पुरानी हवेली जैसा घर था मेरी मजबूरी थी और जगह का किराया बहुत ज्यादा था इसीलिए इस कमरे में मैं शिफ्ट हो गई मेरे पास पैसे बहुत कम थे क्योंकि मेरी भी तीन बहने थी और उनकी भी शादी करनी थी।

मेरे पिताजी खेती किसानी करके हम लोगों का पालन पोषण कर रहे थे इसीलिए थोड़े पैसे में ही मुझे यहां पर अपनी पढ़ाई करनी थी और जल्दी से नौकरी पाकर अपने पिताजी का बोझ कम करना था अभी इस घर में शिफ्ट हुए मुझे कुछ हफ्ते ही हुए थे तभी एक रात को एक औरत अपनी जवान बेटी को लेकर उस घर में आई और अपनी बेटी को छोड़कर चली गई उस लड़की को मकान मालिक लेकर अपने कमरे में चले गए और मकान मालिक की पत्नी वही कमरा के बाहर बैठकर पहरा देने लगी।

मेरी तो कुछ समझ में नहीं आ रहा था या क्या हो रहा है और चीखने चिल्लाने की आवाज रात भर सुनाई देती थी मैंने मकान मालिक की पत्नी से पूछा है लेकिन उन्होंने मुझे कुछ भी बताने से इनकार कर दिया एक दिन मैं कॉलेज से जल्दी घर आ गई तभी मैंने सोचा क्यों ना मोहल्ले में जाकर किसी औरत से पूछा जाए आखरी या सब क्या हो रहा है तो मैं मोहल्ले की एक औरत के घर पर गई उनकी लड़की मेरे ही कॉलेज में पढ़ती थी उन्होंने मुझसे कहा बेटी यह बात उस समय की है मोहल्ले की जब एक जवान लड़की की शादी कहीं नहीं हो रही थी।

बेटियां और मकान मालिक की कहानी | Hot Hindi Khaniya | kamuk hindi khaniya | hindi khaniya download

उनके घर वाले बहुत परेशान थे तो वह अपनी बेटी को तुम्हारे मकान मालिक के पास ले गई और रात भर के लिए छोड़ दिया वह उसकी रात को बाल बनाते हैं और चोटी काट लेते हैं इसके कुछ महीने के बाद ही उसकी शादी लग गई और उसको बहुत सारा धन दौलत भी मिला या मैं अपनी आंखों से कई साल से होते हुए देखा है मेरी बेटी भी जैसे ही जवान हो जाएगी मैं उसको भी वहां पर ले जाऊंगी ताकि उसका भी जिंदगी संवर जाए मोहल्ले में हर किसी से यही सब सुनने के बाद मेरे भी दिमाग में यही सब घूमने लगा मैंने यह सब बातें अपने घर पर बताएं तो मेरे पिताजी बोले ठीक है तो अपनी बहन को भी वहां दिखा दो हम लोग चाहते हैं।

इसकी भी शादी जल्दी से हो जाए मैं अपनी बहन को शहर बुला लिया और उसको अपने मकान मालिक के पास भेज दिया रात भर वह भी बहुत चिल्लाती रही सुबह जब वह बाहर आए तो वह बहुत थकी हुई थी पसीने में पूरा भीगी हुई थी मानो बहुत ज्यादा मेहनत करी हो मकान मालिक की भी आंखें बहुत लाल थी और मेरी बहन के कटे हुए बाल उनके हाथ में मैं अपनी बहन को अपने कमरे में ले गई और उससे पूछा लेकिन उसने मुझे कुछ भी बताने से इनकार कर दिया और कहने लगी मुझे वापस अपने गांव जाना है अपने पिता के पास या कहकर वह चली गई उसके कुछ महीने बाद ही उसकी शादी लग गई और अपने ससुराल चली गई ऐसे ही कई साल बीत गए एक दिन मैंने यह बात अपने कॉलेज में पढ़ने वाले दोस्तों को बताइ उन्होंने कहा या सब अंधविश्वास है जरूर कुछ गड़बड़ है।

मैंने उनको बहुत यकीन दिलाया लेकिन वह लोग यह सब बात नहीं माने और मुझसे कहा कि अब तुम भी तो जवान हो गई हो तो आज रात तुम ही उस कमरे में क्यों नहीं जाती हो हम लोग घर के पीछे खड़े रहेंगे कोई भी बात होगी तो तुम तुरंत ही खिड़की से चिल्ला देना हम लोग तुरंत ही आ जाएंगे मैं उनकी बात मान गई और अपने मकान मालिक से कह दिया कि आज रात में आना चाहती हूं वह भी मान गए और मुझे रात को अपने कमरे में बुला लिया पहले तो मुझे बहुत डर लग रहा था लेकिन मैं चुपचाप वहीं बिस्तर पर बैठ गई मकान मालिक अपने औजार लेकर काला कुर्ता पहन कर कमरे में आए और मेरे पास बैठ गए और उन्होंने तुरंत ही मेरी चोटी काट दिया और मुझे कुछ खाने के लिए दिया लेकिन मैंने वह नहीं खाया और चुपचाप वहीं बैठी रही तभी उस कमरे में एक पीछे से दरवाजा भी था  वह दरवाजा खुला और एक आदमी तुरंत ही अंदर आ गया और मेरे पास आकर बैठ गया।

और मेरे कपड़े उतारने लगा मैंने उससे पूछा यह क्या हो रहा है तो उसने मुझे कोई जवाब नहीं दिया और मुझे बिस्तर पर लिटा कर मेरे साथ जबरदस्ती करने लगा तभी मैंने जोर से चिल्लाया और अपने दोस्तों को आवाज लगा दिया वह लोग तुरंत ही उस पीछे वाले दरवाजे को तोड़कर घर में घुस आए और उस आदमी को पकड़ लिया उस आदमी और मकान मालिक की सच्चाई सुनकर मेरे तो पैरों तले जमीन ही खिसक गई थी उस आदमी ने बताया कि वह एक बहुत बड़ा बिजनेसमैन है और उसके पास लाखों करोड़ों रुपए हैं।

वह नए-नए और जवान लड़कियों के साथ अपनी प्यास बुझाना चाहता है इसीलिए मकान मालिक के साथ मिलकर या घिनौना काम कर रहा है जवान लड़कियों को अपने यहां बुलाकर कुछ नशीला पदार्थ खिलाकर रात भर उनके साथ गंदे काम करता है जिससे सुबह उनको कुछ भी याद नहीं रहता है और वह रात भर बस चिल्लाती रहती है और उसके कुछ महीने बाद ही उसकी शादी अपने नौकर से करवा देता है।

और उनको भी बहुत सारा पैसा दे देता है जिससे उनकी जिंदगी भी बेहतर हो जाती है मकान मालिक भी उसके इस घिनौने काम में साथ दे रहे थे क्योंकि उनका बेटा उन्होंने किडनैप करके अपने पास रख लिया है इसीलिए वह बेबस है उसकी बात मानने के लिए यह सब जानने के बाद मैं तुरंत ही पुलिस को फोन किया और उस बिजनेसमैन को पुलिस के हवाले कर दिया और उस मकान मालिक का बेटा भी वापस ले लिया।

निष्कर्ष (बेटियां और मकान मालिक की कहानी | Hot Hindi Khaniya)

दोस्तों जिंदगी में कभी भी आंख पर पट्टी बांधकर किसी पर भी भरोसा मत करना क्योंकि किस्मत में जो लिखा है वह मिलकर ही रहेगा कोई किसी की किस्मत को बदल नहीं सकता जितना मिला है उतने में ही खुश रहे ज्यादा पानी की चाहत इंसान को अंधकार में धकेल देती है इसीलिए खुश रहे मस्त रहे और दूसरों का ख्याल रखें।


Read More : मोहन और चींटियों की कहानी | Motivational Story in Hindi


दोस्तों अगर बेटियां और मकान मालिक की कहानी | Hot Hindi Khaniya लेख अच्छा लगा हो तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करें इससे हमे सहयोग मिलेगा और कमेंट में अपनी राय जरूर बताएं, Flasis आपके उज्जवल भविष्य की कामना करता है, धन्यवाद।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *